भारत के छत्तीसगढ़ में मिला दुनिया का सबसे निडर जीव, जो इंसानों की तरह सोचता और महसूस करता है, दुनिया सदमे में है।

IMG-20201021-WA0005
IMG-20201021-WA0005
previous arrow
next arrow

 

दुनिया में तरह-तरह के खूंखार प्राणी है उनमें से एक है हनी बैजर (Honey Badger) । यह दुर्लभ प्राणी छत्‍तीसगढ़ के कांकेर जि‍ले (Kanker District) के एक गांव में पाया गया है। बताया जाता है कि‍ यह दुनि‍या का सबसे निडर प्राणी है (World’s Most Fearless Animal)।

 

 

 

बिना डरे शेर से करता है लड़ाई

वैसे तो शेर सबसे निडर प्राणी माना गया है लेकिन छत्तीसगढ़ में मिला हनी बैजर सबसे छोटा और शेर व मगरमच्छ जैसे जानवरों से भी बिना डरे हुए लड़ाई करने माहिर है। यह जीव बिना डरे शेर से भी भि‍ड़ जाता है. इसका कारण है कि इसके दांत और नाखून काफी तीखे और पैने होते हैं।

सड़क पर कर रहा था विचरण

बताया जा रहा है कि मंगलवार देर रात एक किसान को सड़क किनारे हनी बैजर घूमता हुआ मिला था, वन विभाग ने इस जीव को अपने कब्जे में ले लिया है। वन विभाग के कर्मचारी इसकी देखरेख में जुटे है।

 

 

विलुप्त माना जाता है प्राणी

ब्लैक एंड व्हाइट हनी बैजर (Black And White Honey Badger) को प्रायः विलुप्त माना जाता है। कांकेर का कोटलभट्टी के जंगल का इलाका कांकेर, कोंडागांव और धमतरी जिला के अंतर्गत आता है. बपास में सीतानदी अभ्यारण्य होने से इस जानवर के आने की संभावना उक्त क्षेत्र से जताई जा रही है।

 

दूसरों के घर में बनाता है ठिकाना

बताया जाता है कि हनी बैजर प्रजाति सभी बैजर से ज्यादा निडर और शातिर होता है. हनी बैजर अपना घर नहीं बनाता है, यह सियार और लोमड़ी के घरों पर कब्जा करता है। इसके पैरों पर नुकीले और मजबूत नाखून होते हैं, जिसकी मदद से ये 20 से 30 फीट की सुरंग तक खोद सकता है. तथा यह जंगल में किसी से भी उलझने में नहीं कतराता है, व बिना सोचे-समझे हमला कर देता, कई बार देखा गया है हनी बैजर तब तक लड़ता है जब तक सामने वाला दुम-दबाकर भाग न जाये या फिर इसकी मृत्यु न हो जाये। इसीलि‍ए इस जानवर से सभी डरते हैं।

 

छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले के एक दुर्लभ प्रजाति का जीव मिला है. दुधावा वन परिक्षेत्र के जंगलों में अनोखे जानवर को देखकर ग्रामीण भी हैरान हैं. सूचना मिलने के बाद वन विभाग की टीम ने दुर्लभ जीव को अपने संरक्षण में लिया है.

 

वन विभाग के मुताबिक उन्हें कोटलभट्ठी गांव के पास सड़क किनारे एक दुर्लभ जानवर देखे जाने की जानकारी मिली थी. वन विभाग की टीम जब मौके पर पहुंची तो वह भी हैरत में पड़ गई. दरअसल, ग्रामीणों ने जिस जीव को पकड़कर वन अमले को सौंपा, वह कोई आम जानवर नहीं बल्कि दुनिया का सबसे निर्भीक जानवर माना जाने वाला हनी बेजर था.

 

हनी बेजर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में ‘मोस्ट फियरलेस क्रीचर‘ के नाम से दर्ज है. यह जीव बेहद खूंखार, निडर, बुद्धिमान और चालाक माना जाता है. यह संसार के संरक्षित जीवों में से एक है.

 

वन विभाग की टीम ने हनी बेजर को अपने कब्जे में लिया है. उसकी देखभाल की जा रही है. बिज्जू प्रजाति के इस जीव की संख्या बीते डेढ़ दशक में तेजी से कम होने के कारण इसे विलुप्त वन्यजीवों की श्रेणी में रखा गया है. बस्तर के कांकेर क्षेत्र में दुर्लभ जीव हनी बेजर पहली बार दिखाई दिया है.

 

 

 

 

जिले के वन अधिकारी आलोक वाजपेयी ने बताया कि, .हनी बैजर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में मोस्ट फियरलेस क्रीचर के नाम से दर्ज है। यह बेहद खूंखार, निडर, बुद्धिमान और चालाक होता है।.