विदेश यात्रा भी नहीं की, फिर भी हो गए पॉजिटिव, भारत में अब तक 4 मामले,जानें मंकीपॉक्स के लक्षण, कैसे फैलता है और इलाज

IMG-20201021-WA0005
IMG-20201021-WA0005
previous arrow
next arrow

Monkeypox Cases In India: देश में मंकीपॉक्स के चौथे मामले की पुष्टि दिल्ली में हुई है. चौकाने वाली बात ये है कि ये एक ऐसे व्यक्ति में मिला है जिसका विदेशी यात्रा का कोई इतिहास नहीं है. पहले के तीन मामले केरल (Kerala) में उन व्यक्तियों में पाए गए थे जो संयुक्त अरब अमीरात से आए थे. दिल्ली का मामला, पश्चिमी दिल्ली के पश्चिम विहार के एक 34 वर्षीय व्यक्ति में सामने आया है. व्यक्ति को दो दिन पहले लोक नायक अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जिसमें दो हफ्ते तक चलने वाले लक्षण दिखाई दिए. टेस्ट में वह पॉजिटिव पाए गए. रोगी बीमार पड़ने से पहले हिमाचल प्रदेश गया था.

 

 

क्या है मंकीपॉक्स? (What Is Monkeypox?)

मंकीपॉक्स वायरस एक मानव चेचक के समान एक दुर्लभ वायरल संक्रमण है. 1958 में यह पहली बार शोध के लिए रखे गए बंदरों में पाया गया था. इस वायरस का पहला मामला 1970 में रिपोर्ट किया गया है. मुख्य रूप से मध्य और पश्चिम अफ्रीका के उष्णकटिबंधीय वर्षावन क्षेत्रों (tropical rainforest area) में यह रोग में होता है.

 

 

मंकीपॉक्स का लक्षण (Symptoms Of Monkeypox)

बार-बार तेज बुखार आना.

पीठ और मांसपेशियों में दर्द.

त्वचा पर दानें और चकते पड़ना.

खुजली की समस्या होना.

शरीर में सामान्य रूप से सुस्ती आना.

मंकीपाक्स वायरस की शुरुआत चेहरे से होती है.

संक्रमण आमतौर पर 14 से 21 दिन तक रहता है.

चेहरे से लेकर बाजुओं, पैरों और शरीर के अन्य हिस्सों पर रैशेस होना.

गला खराब होना और बार-बार खांसी आना

 

 

कैसे फैलता है मंकीपॉक्स संक्रमण | How Is Monkeypox Infection Spread?

मंकीपाक्स एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है. ऐसे में लोगों को शारीरिक संपर्क से बचाव रखना चाहिए.

संक्रमित व्यक्ति या किसी व्यक्ति में पंकीपॉक्स के लक्षण हैं, तो उसे तुरंत डाक्टर से संपर्क करना चाहिए.

संक्रमित व्यक्ति को इलाज पूरा होने तक खुद को आइसोलेट रखना चाहिए.

मंकीपाक्स वायरस त्वचा, आंख, नाक या मुंह के माध्यम से शरीर में प्रवेश करता है.

यह संक्रमित जानवर के काटने से या उसके खून, शरीर के तरल पदार्थ, या फर को छूने से भी हो सकता है.

 

क्या है मंकीपॉक्स का इलाज? (What Is The Treatment For Monkeypox?)

मंकीपॉक्स का कोई इलाज नहीं है, लेकिन चेचक का टीका मंकीपॉक्स को रोकने में 85 प्रतिशत प्रभावी साबित हुआ है. मंकीपाक्स को यूके स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी ने इसे कम जोखिम वाला वायरस बताया है.