covid 4th wave: omicron ने कर ली चौथी लहर की तैयारी, अब ‘ba.3’ रूप में कर रहा वार, जानिए कितना घातक और लक्षण

IMG-20201021-WA0005
IMG-20201021-WA0005
previous arrow
next arrow

ओमीक्रोन वायरस का खतरा अभी कम नहीं हुआ है। यह बार-बार अपना रूप बदल रहा है। कई देशों में ओमीक्रोन के नए-नए सब वेरिएंट के मामले अब भी बढ़ रहे हैं। ऐसी आशंका है कि यह कोरोना की चौथी लहर का कारण बन सकता है।

 

 

कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामले थोड़े कम हुए हैं लेकिन खतरा अभी टला नहीं है। कोरोना की चौथी लहर (Covid 4th wave) से पहले ओमीक्रोन (Omicron) के एक और नए सबवेरिएंट का पता चला है जिसे लेकर वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) ने चिंता जाहिर की है। डब्ल्यूएचओ में कोविड-19 तकनीकी प्रमुख डॉक्टर मारिया वैन करखोव ने कहा है कि ओमीक्रोन का सबवेरिएंट बीए.3 (Omicron subvariant BA.3) भी है।

ओमीक्रोन को सबसे तेज फैलने वाली वेरिएंट माना गया है। इसकी वजह से दुनिया को तीसरी लहर का सामना करना पड़ा। अब जब इसके मामले कम होने लगे थे, तो इसके सबवेरिएंट बीए.2 (BA.2) ने कई देशों में तबाही मचानी शुरू कर दी। एक्सपर्ट्स मान रहे थे कि यह चौथी लहर का कारण बन सकता है। ऐसे में ओमीक्रोन के एक और सबवेरिएंट के मिलने से एक बार फिर खतरे की घंटी बज गई है।

 

बीए.3 कितना घातक है, इस पर डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि यह अपने मूल रूप यानी ओमीक्रोन बीए.1 और बीए.2 की तरह गंभीर है। यानी इसका असर वैसा ही है, जैसा हम ओमीक्रोन के मामले में देखते आए हैं। चलिए जानते हैं कि बीए.3 क्या है, यह कितना घातक है और इसके क्या लक्षण हो सकते हैं।

 

 

डब्ल्यूएचओ के अनुसार, बीए.3 ओमीक्रोन वेरिएंट का ही एक बदला हुआ रूप है। जर्नल ऑफ मेडिकल वायरोलॉजी में 18 जनवरी को प्रकाशित एक शोध ने भी बीए.3 सबवेरिएंट की पुष्टि की है। अध्ययन में कहा गया है कि बीए.3 पहली बार उत्तर पश्चिम दक्षिण अफ्रीका में पाया गया था। कई अध्ययनों में बीए.3 को ओमीक्रोन का कम प्रचलित वंश कहा गया है।

 

मानव शरीर पर वायरस के एक प्रकार की गंभीरता इस बात पर निर्भर करती है कि मेजबान शरीर वायरस के प्रति कैसे प्रतिक्रिया करता है। इसे ओमीक्रोन के अन्य वेरिएंट की तुलने में हल्का संस्करण माना जाता है। ऐसा माना जा रहा है कि बीए.3 में बहुत ज्यादा तेजी से फैलने की क्षमता नहीं। गंभीरता के मामले में यह ओमीक्रोन के बीए.1 और बीए.2 दो सबवेरिएंट की तरह ही है।

 

ओमीक्रोन को तीसरी लहर का प्रमुख कारण माना गया था. हालांकि इसके मामले बहुत ज्यादा गंभीर नहीं थे लेकिन इसमें तेजी से फैलनी की क्षमता थी। अगर बीए.3 के लक्षणों की बात की जाए, तो इसका फिलहाल कोई विशेष लक्षण सामने नहीं आया है लेकिन माना जा रहा है कि इसके लक्षण ओमीक्रोन की तरह हो सकते हैं। वैज्ञानिक मान रहे हैं कि इसके लक्षण पुरानी बीमारियों, प्रतिरक्षा और टीकाकरण पर निर्भर हो सकते हैं। ओमीक्रोन के सामान्य लक्षण गले में खराश, नाक बहना, छींकना, सिरदर्द, शरीर में दर्द और हल्का बुखार आदि हैं।

 

 

हाल ही में वैज्ञानिकों ने कोरोना की चौथी लहर की भी चेतावनी दी है, जो जून में आ सकती है। फिलहाल ओमीक्रोन को छोड़कर कोरोना का कोई भी रूप ज्यादा घातक साबित नहीं हो रहा और न ही उनके मामले मिल रहे हैं। बेशक ओमीक्रोन के मामले कुछ देशों में तेजी से बढ़ रहे हैं। ऐसे में यह संदेह पैदा हो गया है कि ओमीक्रोन और इसके सबवेरिएंट चौथी लहर का कारण बन सकते हैं।