यूक्रेन संकट : निवेशकों के 7.5 लाख करोड़ से अधिक डूबे शेयर बाजार मुंह के बल गिरा, खरीदने का अच्छा मौका।

IMG-20201021-WA0005
IMG-20201021-WA0005
previous arrow
next arrow

रूस के यूक्रेन में सैन्य अभियान शुरू करने की घोषणा के बाद गुरुवार को बाजार खुलने के कुछ ही मिनटों में निवेशकों के 7.5 लाख करोड़ से अधिक रुपये डूब गए।

 

 

बीएसई सूचीबद्ध कंपनियों की कुल पूंजी जहां पहले 255.68 लाख करोड थी तो वहीं यह 7.59 लाख करोड़ की गिरावट के साथ गुरुवार को 248.09 लाख करोड़ पर बंद हुआ।

 

वहीं, वैश्विक शेयर बाजारों में भारी बिकवाली का असर बृहस्पतिवार को घरेलू बाजारों पर भी हुआ और शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स तथा निफ्टी 3 फीसगदी प्रतिशत से अधिक टूट गए।

 

इस दौरान 30 शेयरों वाला बीएसई सेंसेक्स 1750 अंक या 3.06 प्रतिशत गिरकर 55,477.90 पर आ गया, जबकि एनएसई निफ्टी 515.10 अंक या 3.02 फीसदी की गिरावट के साथ 16,551.80 पर पहुंच गया।

 

शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स के सभी शेयर भारी नुकसान के साथ कारोबार कर रहे थे। सबसे अधिक नुकसान वाले शेयरों में एयरटेल, इंडसइंड बैंक, टेक महिंद्रा और एसबीआई शामिल थे।

 

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने यूक्रेन में सैन्य अभियान शुरू करने की घोषणा की, जिससे दुनिया के बाजारों में भारी बिकवाली देखने को मिली।

 

यूक्रेन-रूस संकट को देखते हुए ब्रेंट क्रूड तेल आठ साल में पहली बार बढ़कर 100 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल हो गया।

 

शेयर बाजार के अस्थाई आंकड़ों के मुताबिक विदेशी संस्थागत निवेशकों ने बुधवार को 3,417.16 करोड़ रुपये के शेयर बेचे।