Breaking: ZEE और SONY पिक्चर्स का मर्जर, बोर्ड से सैद्धांतिक मंजूरी मिली

IMG-20201021-WA0005

 

Zee Entertainment Enterprises (ZEEL) ने बुधवार को घोषणा की कि 21 सितंबर 2021 को हुई बोर्ड की बैठक में उपस्थित और मतदान करने वाले उसके निदेशक मंडल ने सर्वसम्मति से Sony Pictures Networks India (SPNI) और ZEEL के बीच विलय के लिए सैद्धांतिक मंजूरी प्रदान की। सोनी विलय के बाद बनने वाली कंपनी में 11,605.94 करोड़ रुपये निवेश करेगी। विलय के बाद बनने वाली कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर और CEO के रूप में पुनीत गोयनका बने रहेंगे। विलय के बाद जी एंटरटेनमेंट के पास 47.07 फीसद हिस्सेदारी रहेगी। सोनी पिक्चर्स के पास 52.93 फीसद हिस्सेदारी होगी।

 

दोनों कंपनी के टीवी कारोबार, डिजिटल एसेट्स, प्रोडक्शन ऑपरेशंस और प्रोग्राम लाइब्रेरी को भी मर्ज किया जाएगा। वहीं, ZEEL और SPNI के बीच एक्सक्लूसिव नॉन-बाइंडिंग टर्म शीट का करार हुआ है। 47.07% हिस्सा ZEEL शेयरधारकों के पास होगा और शेष 52.93% विलय वाली इकाई SPNI शेयरधारकों के पास होगी। डील का ड्यू डिलिजेंस अगले 90 दिनों में पूरा होगा। मौजूदा प्रोमोटर फैमिली Zee के पास अपनी शेयरहोल्डिंग को 4 फीसदी से बढ़ाकर 20 फीसदी करने का विकल्प होगा। बोर्ड में ज्यादातर डायरेक्टर को नॉमिनेट करने का अधिकार सोनी ग्रुप के पास होगा।

 

मर्जर की बड़ी बातें

 

-ज़ी एंटरटेनमेंट-सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया के बीच विलय का एलान

– ज़ी एंटरटेनमेंट के बोर्ड ने विलय के लिए सैद्धांतिक मंजूरी दी

– विलय के बाद भी पुनीत गोयनका MD&CEO बने रहेंगे

– सोनी पिक्चर्स एंटरटेनमेंट विलय के बाद $157.5 Cr निवेश करेगी

– निवेश की रकम का इस्तेमाल ग्रोथ के लिए किया जाएगा

– विलय के बाद सोनी एंटरटेनमेंट मेजॉरिटी शेयरहोल्डर होगी

– दोनों पक्षों के बीच नॉन बाइंडिंग टर्मशीट साइन किया गया

– 90 दिनों के भीतर दोनों पक्ष ड्यू डिलिजेंस का काम करेंगे

– विलय के बाद भी कंपनी भारतीय शेयर बाजार में लिस्टेड होगी

– दोनों पक्षों के बीच में नॉन कंपीट एग्रीमेंट भी साइन होगा

 

 

विलय और नए निवेश के बाद कैसे बदलेगी हिस्सेदारी

 

– मौजूदा स्थिति में ZEEL के शेयरहोल्डर्स का हिस्सा 61.25% होगा

– $157.5 Cr निवेश के बाद हिस्सेदारी में बदलाव आएगा.

– निवेश के बाद ZEEL के निवेशकों का हिस्सा करीब 47.07% होगा

– सोनी पिक्चर्स के शेयरहोल्डर्स का हिस्सा 52.93% रहने का अनुमान