सोनू सूद पर लगा 20 करोड़ की टैक्स चोरी का आरोप, IT टीम ने किया फर्जी कंपनियों का खुलासा

IMG-20201021-WA0005

फिल्म अभिनेता सोनू सूद अब बड़ी मुसीबत में फंस सकते हैं आयकर विभाग ने उन पर 20 करोड़ की आयकर चोरी का आरोप लगाते हुए उनके चैरिटी ट्रस्ट द्वारा विदेशी चंदा अधिनियम एक्ट के नियमों के उल्लंघन का भी आरोप लगाया है. यानी आने वाले दिनों में सोनू सूद पर प्रवर्तन निदेशालय और सीबीआई समेत गृह मंत्रालय के एफसीआरए डिवीजन की जांच भी शुरू हो सकती है. आयकर विभाग द्वारा जारी बयान में लखनऊ स्थित एक कंपनी पर भी छापेमारी की बात कही गई है जो कथित तौर पर एक्टर से जुड़ी हुई है. इस बाबत सोनू सूद के पक्ष का इंतजार है.

 

बड़े पैमाने पर आयकर

आयकर विभाग द्वारा दी गई अधिकारिक जानकारी के मुताबिक अभिनेता सोनू सूद के ठिकानों पर पिछले दिनों आयकर विभाग द्वारा छापेमारी की गई थी. आयकर विभाग को सूचना मिली थी अभिनेता सोनू सूद द्वारा अपनी आय को लेकर जो जानकारी आयकर विभाग को दी जा रही है वह अपने आप में काफी संदेह के दायरे में है. आयकर विभाग ने जब सोनू सूद के ठिकानों पर छापेमारी की तो जांच के दौरान अनेक ऐसे दस्तावेज मिले जिनसे पता चलता था कि सोनू सूद ने बड़े पैमाने पर आयकर चोरी की है.

 

फर्जी कंपनियों के जरिए अनसिक्योर्ड लोन

 

 

आयकर विभाग के मुताबिक सोनू सूद को फिल्म जगत से जो पैसा मिलता था उसमें से काफी पैसा उन्होंने अपनी आय ना दिखा कर कई फर्जी कंपनियों के जरिए अनसिक्योर्ड लोन दिखाया हुआ है. आयकर विभाग का दावा है कि अब तक की जांच के दौरान 20 ऐसी कंपनियों का पता चला है जिनसे सोनू द्वारा अनसिक्योर्ड लोन दिखाया गया जबकि यह पैसा उनकी अपनी कमाई का था. आयकर विभाग के आला अधिकारी के मुताबिक जब इन शैल कंपनियों के कर्ताधर्ताओं से पूछताछ की गई तो उन्होंने शपथ पत्र के जरिए स्वीकार किया कि उन्होंने सोनू सूद को बोगस एंट्री दी थी. आयकर विभाग के अधिकारी दावे के मुताबिक अब तक ₹20 करोड़ से ज्यादा की आयकर चोरी का पता चला है

 

धार्मिक कामों में खर्च

 

 

आयकर विभाग द्वारा दी गई अधिकारिक जानकारी के मुताबिक सोनू सूद ने अपना चैरिटी ट्रस्ट 2 जुलाई 2020 को बनाया था और इस ट्रस्ट में 18 करोड़ 94 लाख रुपए आए .जिसमें से एक करोड़ 90 लाख रुपए विभिन्न धार्मिक कामों में खर्च किए गए. जबकि 17 करोड़ रुपए अभी भी इस ट्रस्ट के खाते में हैं. आयकर विभाग के मुताबिक इस खाते के दस्तावेजों की जांच के दौरान पाया गया कि सोनू सूद के चैरिटी ट्रस्ट को विदेशों से भी दो करोड़ ₹1लाख का चंदा मिला था.

 

दस्तावेज तथा अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरण बरामद

 

 

जांच के दौरान यह भी पाया गया कि इस चंदे को लिए जाने में विदेशी चंदा अधिनियम कानून के नियमों का उल्लंघन किया गया है. आयकर विभाग के मुताबिक छापे के दौरान जो दस्तावेज तथा अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरण बरामद हुए हैं उनकी जांच का काम जारी है. सूत्रों का कहना है कि आयकर विभाग के अधिकारिक खुलासे के बाद अब अभिनेता सोनू सूद और बड़ी मुसीबत में फंस सकते हैं. क्योंकि उन पर जो गंभीर आरोप लगाए गए हैं उनकी जांच का जिम्मा प्रवर्तन निदेशालय समेत दूसरी जांच एजेंसियों को भी दिया जा सकता है. यानी आने वाले दिन सोनू सूद के लिए भारी साबित हो सकते हैं. आयकर विभाग द्वारा मामले की जांच जारी है

 

आयकर विभाग का आधिकारिक बयान

 

 

आयकर विभाग द्वारा जो अधिकारिक बयान जारी किया गया है उसमें लखनऊ की एक इंफ्रा कंपनी पर भी छापे का उल्लेख किया गया है. आयकर विभाग की अधिकारिक जानकारी के मुताबिक इस कंपनी में मुंबई बेस्ट एक्टर की भी कथित साझेदारी है और इस कंपनी द्वारा बड़े पैमाने पर आयकर चोरी की गई है. आयकर विभाग के मुताबिक इस कंपनी के दिल्ली जयपुर लखनऊ और गुरुग्राम स्थित ठिकानों पर छापेमारी की गई और छापेमारी के दौरान एक करोड़ ₹8 लाख की नगदी बरामद हुई है जबकि 11 लाकरो का पता चला है. आयकर विभाग को इस कंपनी के 175 करोड़ रुपए के कथित लेन-देन पर भी संदेह है. इस मामले की जांच भी जारी है बताया जा रहा है कि यह कंपनी भी कथित तौर पर सोनू सूद से जुड़ी हुई है. समाचार लिखे जाने तक इस मामले में सोनू सूद का पक्ष नहीं मिल सका था.