मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के पिता नंद कुमार बघेल गिरफ्तार, भेजे गए जेल।

IMG-20210828-WA0014
IMG-20210828-WA0016
IMG-20210828-WA0017
C1FECB16-374E-4F72-88E4-3B97BA9DA4B7
previous arrow
next arrow

 

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के पिता नंदकुमार बघेल को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। उन्हें पुलिस जिला न्यायालय लेकर पहुंची है। जानकारी के मुताबिक रायपुर पुलिस ने कल नंद कुमार बघेल को आगरा से गिरफ्तार किया था। इसके बाद पुलिस रायपुर लेकर आई।

 

 

 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (Chief Minister Bhupesh Baghel) के पिता नंदकुमार बघेल (Nandkumar Baghel) को 14 दिनों के लिए न्यायिक रिमांड में भेजा गया है, उन्होंने कहा कि ब्राम्हणवाद के खिलाफ ये मेरी अंतिम लड़ाई है, सुप्रीम कोर्ट तक लड़ाई लड़ूंगा. जमानत याचिका प्रस्तुत नहीं किया है।

मुख्यमंत्री के पिता नंदकुमार बघेल पर एक वर्ग विशेष के खिलाफ कथित विवादित बयान पर FIR दर्ज कर ली गई है। जहां रायपुर डीडी नगर थाने में पुलिस ने आईपीसी की धारा 505 और 153 (क) के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था।

 

नंदकुमार बघेल ने एक वर्ग विशेष के खिलाफ टिप्पणी की थी, जिसके बाद कार्रवाई हो रही है। उनकी इस टिप्पणी से समाज के एक वर्ग की भावनाओं और सामाजिक सद्भाव को ठेस लगी है। इसके पहले मुख्यमंत्री ने कहा था कि मुझे सोशल मीडिया और अन्य माध्यमों से यह ज्ञात हुआ है कि ये बात कही जा रही है कि नंदकुमार बघेल पर इसलिए कार्रवाई नहीं होगी, क्योंकि वे मुख्यमंत्री के पिता है। भूपेश बघेल ने यह स्पष्ट कहा था कि उनकी सरकार सभी को एक ही दृष्टि से देखती है। उनके पिता नंदकुमार बघेल से उनके वैचारिक मतभेद शुरू से हैं, ये बात सभी को पता है।

 

बता दें कि बीते महीने सामाजिक कार्यकर्ता नंद कुमार बघेल UP के दौरे पर गए हुए थे। इस दौरान लखनऊ में पत्रकारों से बातचीत करते हुए बघेल ने कहा था कि जिसका वोट, उसी की सरकार. उन्होंने आगे बताया कि ब्राह्मण विदेशी हैं, जिस तरह अंग्रेज यहां से गए, वो भी यहां से जाएंगे। ब्राह्मण सुधर जाएं, या तो जाने के लिए तैयार रहें। उन्होंने कहा कि ब्राह्मणों से इसलिए नाराजगी है, कि वह विदेशी हैं। हमारे सारे अधिकार छीन रहे हैं। बघेल ने कहा था कि गांवों में भी अभियान चलाकर उनका बहिष्कार करेंगे।

 

सीएम बघेल के पिता नंदकुमार बघेल पर एक वर्ग विशेष के खिलाफ कथित विवादित बयान पर FIR दर्ज कर ली गई है। जहां रायपुर डीडी नगर थाने में पुलिस ने आईपीसी की धारा 505 और 153 (क) के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था।