आज से Cheque पेमेंट के लिए लागू Positive Pay System, जानिए क्या है ये और कैसे काम करता है

IMG-20201021-WA0005
IMG-20201021-WA0005
previous arrow
next arrow

1 सितंबर 2021 यानी आज से चेक के इस्तेमाल को लेकर पॉजिटिव पे सिस्टम लागू हो चुका है. भारतीय रिजर्व बैंक ये सिस्टम चेक पेमेंट से जुड़े फ्रॉड को रोकने के लिए लेकर आया है. लेकिन क्या है ये सिस्टम और कैसे काम करता है.

क्या है Positive Pay System

 

(A) पहले क्या था चेक पेमेंट का सिस्टम

 

आज से लागू हुआ Positive Pay System 50,000 रुपये से ज्यादा वैल्यू के चेक पर लागू है. इस Positive Pay System को समझन से पहले ये समझना होगा कि चेक से भुगतान का पूरा सिस्टम काम कैसे करता है. मान लीजिए मेरा अकाउंट SBI में है और आपका एक्सिस बैंक में. मैंने आपको किसी काम के पूरा होने के बाद उसका पेमेंट करने के लिए 1 लाख रुपये का चेक दिया

 

आपने ये चेक अपने बैंक यानी एक्सिस बैंक को दिया. एक्सिस बैंक ये चेक CTS (Cheque Truncation System) के जरिए मेरे बैंक यानी SBI को दिखाएगा. SBI उस चेक में अमाउंट की राशि आपके एक्सिस बैंक को दे देगा, और आपको पेमेंट मिल जाएगी.

 

) आज से क्या करना होगा?

 

अब यहां पर फ्रॉड की गुंजाइश ये है कि मान लीजिए मैंने जो 1 लाख का चेक आपको दिया आपने किसी तरह से उसमें घालमेल करके 10 लाख का चेक बना दिया तो मेरे लिए मुश्किल खड़ी हो जाएगी. नये Positive Pay System सिस्टम में अब जब मैं कोई भी चेक किसी को दूंगा तो मुझे आपको चेक देने के साथ ही अपने बैंक (इस केस में SBI) को भी इस चेक की पूरी डिटेल देनी होगी. जैसे चेक की डेट, बेनेफिशियरी का नाम, अकाउंट नंबर, कुल अमाउंट और अन्य जरूरी जानकारी बैंक को देनी होगी.

 

जब आप मेरे दिए हुए चेक को अपने बैंक (Axis Bank) को देंगे तो ये मेरे बैंक यानी SBI को CTS के जरिए भेजेगा. SBI इस चेक की जानकारी मेरे द्वारा भेजी गई डिटेल से मैच कराएगा. अगर डिटेल मैच कर गई तो चेक को क्लियर कर देगा, नहीं तो चेक रिजेक्ट हो जाएगा.

 

 

बैंक को चेक के बारे में कैसे बताएं

 

अब सवाल उठता है कि मैं किसी भी चेक की जानकारी अपने बैंको को दूंगा कैसे? तो इसके लिए आप मोबाइल बैंकिंग का इस्तेमाल कर सकते हैं. अगर मोबाइल बैंकिंग का इस्तेमाल नहीं करते हैं, तो आप बैंक की वेबसाइट या SMS के जरिए भी अपने बैंक की इसकी जानकारी दे सकते हैं.

 

 

किन बैंकों में लागू

 

आपको बता दें कि RBI ने 1 जनवरी, 2021 से Positive Pay System लागू कर दिया था. बैंक धीरे-धीरे कई चरणों में इसे लागू कर रहे हैं. 1 सितंबर, 2021 से यानी आज से Axis Bank इस सिस्टम को अनिवार्य करने चुका है. लेकिन भारतीय स्टेट बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक जैसे प्रमुख बैंकों ने पहले ही इसे अपने यहां लागू कर दिया है