रेस्टोरेंट में जाकर भूलकर भी खाने में ऑर्डर ना करें तंदूरी रोटी, इसकी सच्चाई जानकर आपके भी उड़ जाएंगे होश

zerodha.banner-No1-1
Zerodha-Review-2020-Is-Free-Investing-Legit-Pros-Cons
previous arrow
next arrow

सब्जी चाहे कोई सी भी क्यों ना हो अगर उसके साथ तंदूरी रोटी (Tandoori Roti Khane Ke Ke Nuksan) मिल जाए तो खाने का स्वाद और भूख दोनों ही डबल हो जाती है. कहीं बाहर खाने पर जाने पर लोग रेस्टोरेंट में तंदूरी रोटी ही ऑर्डर करते हैं. तंदूरी रोटियों (Tandoori Roti Ke Nuksan) को तंदूर में पकाया जाता है जिससे उनमें कोयलों की महक आती है. ऐसे में आज हम आपको तंदूरी रोटी की हकीकत से वाकिफ करना जा रहे हैं कि यह सेहत के लिए फायदेमंद है भी या नहीं.

इस तरह बनाई जाती है तंदूरी रोटी

तंदूर रोटियां मैदा से बनाई जाती हैं मैदे के लगातार सेवन से कई बीमारियां हो जाती हैं. तंदूरी रोटी में 110 से 150 कैलोरीज होती है.

तंदूरी रोटी से होने वाली दिक्कतें

शुगर की समस्या- तंदूरी रोटी में मैदे का इस्तेमाल किया जाता है जो शरीर में शुगर के लेवल को बढ़ाता है. इसमें बहुत अधिक ग्लाइसेमिक इंडेक्स होता है जिससे डायबिटीज का खतरा ज्यादा होता है.

हार्ट की बीमारी का जोखिम-

 

तंदूरी रोटी में मैदा होने कारण इससे हृदय संबंधी बीमारियों का खतरा ज्यादा होता है. अगर आपको तंदूरी रोटी खानी है तो आप गेंहू से बनी तंदूरी रोटी का सेवन करें.