राजधानी रायपुर की इस प्रीमियम शराब दुकान से 500 पेटी महंगी शराब लॉकडाउन में गायब।

राजधानी रायपुर से एक बड़ी खबर सामने आ रही है मिली जानकारी के अनुसार राजधानी रायपुर के स्टेशन रोड स्थित प्रीमियम शराब दुकान से 500 पेटी महंगी शराब गायब है। सूचना मिलते ही आबकारी विभाग की टीम ने ऑडिट किया और पाया कि 500 पेटी शराब कम है। अब सवाल यह उठता है कि 500 पेटी शराब गायब कैसे हुई क्या लॉकडाउन में महंगी कीमत पर बेच दी गईं?

 

यह बात तो जगजाहिर है कि हर बार लॉकडाउन में शराब की बिक्री होती है। 800 की बोतल 2000 में मिलती है इस लॉकडॉउन में भी ऐसा ही हुआ था समझ नहीं आता शराब कोचियो  के पास शराब आती कहां से है।

 

छत्तीसगढ़ सरकार के आबकारी विभाग ने सोमवार से ऑनलाइन ऐप के माध्यम से शराब की बिक्री कि घर पहुंच सेवा चालू की थी जो ध्वस्त है। ऑनलाइन बिक्री के बाद भी शराब प्रेमियों को महंगी कीमतों में ब्लैक में शराब खरीदना पड़ रहा है।

 

शराब दुकान वाले शराब की डिलीवरी नहीं करवा पा रहा तीन-तीन दिन में भी लोगों को शराब नहीं मिल पा रही है। और ऐसे भी देखने को मिल रहा है कि शराब डिलीवरी करने वाले जिन चुनिंदा लोगों को शराब मिल रही है उसे भी फोन करके शराब दुकान के पास बुला रहे हैं और वहां डिलीवरी दे रहे हैं जबकि डिलीवरी के लिए सरकार ने 118 रुपए का शुल्क रखा है। लेकिन जब शराब  दुकान के पास ही जाकर लेना है तो डिलीवरी चार्ज क्यों लिया जा रहा है।

 

कई लोगों से यह भी  सुनने मिल रहा है कि उनके ऑर्डर को कैंसिल किया जा रहा है कारण बताया जा रहा है कि 15 किलोमीटर से अधिक दूरी है जबकि कई ऐसे पते जिनकी शराब दुकान से घर की दूरी मुश्किल से 3 से 4 किलोमीटर है। ऐसे में शराब प्रेमियों की समस्या और बढ़ती जा रही है।