हरियाणा के मंत्री अनिल विज कोरोना वैक्सीन लगाने के बाद भी क्यों हुए संक्रमित, भारत बायोटेक ने दी जानकारी

भारत बायोटेक वैक्सीन के ट्रायल के प्रिंसिपल इन्वेस्टिगेटर डॉ संजय राय कहते हैं कि, हरियाणा के मंत्री अनिल विज को वैक्सीन मिली है तो एंटीबॉडी बनने में समय लगता है. अगर आज आपको वैक्सीन दी गई है तो आज ही आपके शरीर में एंटीबॉडी नहीं बनेगी.
वह बताते है कि यह दो डोज का शेड्यूल है,और ये दोनों डोज यदि आपको मिल जाते हैं तो आप सुरक्षित हैं.



हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज कोरोना वैक्सीन के ट्रायल में शामिल हुए और वे कोरोना संक्रमित हो गए. इसके बाद लोगों में डर है और वैक्सीन को लेकर जेहन में कई सवाल भी हैं. इस पर बायोटेक वैक्सीन के ट्रायल के प्रिंसिपल इन्वेस्टिगेटर डॉ संजय राय ने वैक्सीन से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी दी है. डॉ संजय राय के मुताबिक जब वैक्सीन का ट्रायल चल रहा होता है, खासतौर पर जब तीसरे चरण का ट्रायल चल रहा हो तो 50 फीसदी लोगों को प्लेसिबो दिया जाता है, जबकि 50 फ़ीसदी लोगों को वैक्सीन दी जाती है. इस बारे में किसी को कुछ पता नहीं होता है कि किसको क्या दिया जा रहा है. ना तो देने वाले को पता होता है ना जिसको वैक्सीन दी जा रही है उसे पता होता है और ना ही इन्वेस्टिगेटर को इस बारे में कोई जानकारी होती है. दरअसल इस दौरान यह देखा जाता है कि यह कितनी प्रभावशाली है. यदि यह पहले से पता होगा कि किस को क्या दिया जा रहा है तो इस पर पक्षपातपूर्ण राय हो सकती है.

Leave a Reply