कंगना राणावत को मिला भारत सरकार का साथ, दी जाएगी “Y” सुरक्षा। जानिए क्या होता है इस सुरक्षा में।

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनोट को वाई श्रेणी की सुरक्षा मिली है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कंगना को वाई श्रेणी की सुरक्षा दी है। दरअसल, कंगना रनोट और शिवसेना नेता संजय राउत के बीच जुबानी जंग तेज हो गई थी। संजय राउत ने कंगना को मुंबई न आने की नसीहत दी थी. इस पर कंगना ने मुंबई आने का चैंलेंज किया था।



अब केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कंगना रनोट को वाई श्रेणी की सुरक्षा देने का फैसला किया है। उनकी सुरक्षा में 11 जवान तैनात रहेंगे। इसमें एक या दो कमांडो और बाकी पुलिसकर्मी होंगे। बताया जा रहा है कि 9 सितंबर को जब कंगना मुंबई पहुंचेंगी, उन्हें वाई श्रेणी की सुरक्षा मिल जाएगी।

बता दें कि कंगना ट्विटर पर आने के बाद से ही एक बार फिर से चर्चा में हैं। मुंबई पुलिस को लेकर बयान के बाद से कंगना को लेकर शिवसेना हमलावर हो गई है। शिवसेना ने कंगना को लेकर अपने तेवर काफी तीखे कर लिए हैं और इन हालात को देखते हुए कंगना के पिता ने हिमाचल प्रदेश सरकार से पुलिस सुरक्षा की मांग की थी। अब खबर है कि गृह मंत्रालय की ओर से अब कंगना को वाई श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की गई है।

 

 

 

 




कंगना ने ट्वीट कर खुशी जताई

कंगना ने खुद को मिली इस सुरक्षा को लेकर खुशी जताते हुए गृह मंत्री अमित शाह को टैग करते हुए लिखा, ‘ये प्रमाण है कि अब किसी देशभक्त आवाज़ को कोई फ़ासीवादी नहीं कुचल सकेगा,मैं अमित शाह जी की आभारी हूं। वो चाहते तो हालातों के चलते मुझे कुछ दिन बाद मुंबई जाने की सलाह देते मगर उन्होंने भारत की एक बेटी के वचनों का मान रखा, हमारे स्वाभिमान और आत्मसम्मान की लाज रखी, जय हिंद।’


जानें- क्या है मामला, क्यो हो रहा विवाद

इस सबकी शुरूआत तब हुई थी जब रनोट ने कहा था कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की मौत के बाद उन्हें मुंबई में असुरक्षा महसूस होती है। रनोट ने ट्वीट किया था कि मुंबई में पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर जैसा महसूस क्यों हो रहा है? उन्होंने एक सितंबर की एक खबर भी टैग की थी, जिसमें राउत ने कथित रूप से कहा था कि रनोट को यदि मुंबई पुलिस से डर है तो उन्हें मुंबई वापस नहीं आना चाहिए। शिवसेना के राज्यसभा सदस्य ने महाराष्ट्र सरकार से मुंबई पुलिस को बदनाम करने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने की अपील की थी। उन्होंने रनोट से कहा था कि वह पीओके की असली स्थिति जानने के लिए पहले वहां का दौरा करें। रनोट ने हाल ही में मुंबई की तुलना पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से की थी, जिसके बाद उन्हें शिवसेना नेताओं की नाराजगी का सामना करना पड़ा था।

पीओके जाएं, खर्चा हम देंगे

संजय राउत ने कहा कि जिस तरह की भाषा का वह प्रयोग कर रही हैं हम लोग नहीं कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि वह जिस थाली में खा रही हैं, उसी में थूक रही हैं। कुछ राजनीतिक दल उनका समर्थन कर रहे हैं। अगर वह पीओके जाना चाहती हैं तो दो दिन के लिए चली जाएं। हम ही पैसा दे देंगे। एक बार देख लें पीओके क्या है। वहां कैसा माहौल है।

 

क्या होता है Y श्रेणी की सुरक्षा में

 

इस सुरक्षा में 11 जवान तैनात रहेंगे। इसमें एक या दो कमांडो और बाकी पुलिसकर्मी होंगे। इसका नोटिफिकेशन थोड़ी देर में जारी हो सकता है।

 

 

Leave a Reply