धूमकेतु “NEOWISE” भारत में दिखेगा 6800 साल बाद। नग्न आंखों से देख सकते हैं आप, जाने कब दिखेगा धूमकेतु।।

दुनिया भर के अंतरिक्ष उत्साही जल्द ही आसमान में एक धूमकेतु (Comet) को देख पाएंगे जिसे C / 2020 F3 NEOWISE कहा जाता है। अभी-अभी खोजा गया ये धूमकेतु पृथ्वी के पास से होकर गुजर रहा है और अंत में क्षितिज से नीचे जाने से पहले जल्द ही आकाश में अपने चरम पर पहुंच जाएगा। धूमकेतु की खोज नासा के नियर अर्थ ऑब्जेक्ट वाइड-फील्ड इन्फ्रारेड सर्वे एक्सप्लोरर टेलिस्कोप द्वारा मार्च में की गयी थी।

 



EarthSky की रिपोर्ट के मुताबिक, NEOWISE 3 जुलाई को सूर्य से 44 मिलियन किलोमीटर नजदीक से गुजर चुका है। यह दूरी मरकरी से सूर्य की दूरी से भी कम है। तब से यह धीरे-धीरे हर रोज क्षितिज के करीब पहुंच रहा है। 11 जुलाई की सुबह यह आसमान में सबसे ऊंचाई पर होगा और उसके बाद यह बढ़ता रहेगा।



धूमकेतु कैसे देखें?

धरती के उत्तरी गोलार्द्ध (Northern Hemisphere) पर रहने वाले लोग इसे देख सकेंगे जिसमें भारतीय भी शामिल हैं। भारत में रहने वालों को NEOWISE धूमकेतु आसमान में तब देखने को मिलेगा जब यह इस महीने के अंत में पृथ्वी के सबसे करीब आएगा।

NEOWISE धूमकेतू 22-23 जुलाई को पृथ्वी के सबसे नजदीक होगा। इस समय ये पृथ्वी से 200 मिलियन किलोमीटर दूर है। लेकिन, 22-23 जुलाई को इसकी दूरी सिर्फ 100 मिलियन किलोमीटर होगी। हालांकि ये दूरी भी चांद की दूरी से 200 गुना ज्यादा होगी। अच्छी बात ये है कि अगर आपके पास दूरबीन नहीं हैं, तो भी आप सिर्फ अपनी नग्न आंखों से धूमकेतु को देख पाएंगे। अगस्त में, धीरे धीरे ये धूमकेतु गायब हो जाएगा।

धूमकेतु वैसे दूरबीन से देखे जाने वाली चीज़ है। हालांकि, कई स्काईवॉचर्स का दावा है कि उन्होंने अपनी नग्न आंखों से भी ये देखी है। लेकिन ये हर आम इंसान पर लागू नहीं होता, खासतौर पर उन पर जो अनुभवी स्काईवॉचर्स नहीं हैं। इसलिए अगर आप NEOWISE धूमकेतु को ध्यान से देखना चाह रहे हैं, तो यही सलाह दी जाती है कि आप इसे दूरबीन से ही देखने की कोशिश करें।
(न्यूज सोर्स R. भारत)


नासा के अनुसार, NEOWISE धूमकेतु में एक नाभिक है जो 5 किलोमीटर के करीब बड़ी है। साथ ही अंतरिक्ष एजेंसी का ये भी कहना है कि NEOWISE धूमकेतु लगभग 6,800 साल में एक बार धरती से नजर आता है। 

Leave a Reply